Home मेंस हेल्थ टिप्स हस्तमैथुन की लत के कारण, लक्षण और उपचार

हस्तमैथुन की लत के कारण, लक्षण और उपचार

9
Masturbation-Addiction-In-Hindi

हस्तमैथुन की लत पुरुषों और महिलाओं दोनों में समान रूप से प्रचलित एक आम समस्या है। इस स्थिति से पीड़ित व्यक्ति संभोग सुख प्राप्त करने या यौन चरम सुख प्राप्त करने के लिए स्व यं ही अपने जननांगों को उत्तेाजित करते हैं। वर्तमान में मास्टरबेशन की लत से सम्बंधित अनेक मुद्दे सामने आते हैं, जो सम्बंधित व्यक्तियों के लिए हानिकारक साबित हो सकते हैं। चूँकि हस्तमैथुन की लत के इलाज के लिए कोई दवाएं उपलब्ध नहीं हैं। अतः व्यक्तियों को हस्तमैथुन की लत के संभावित दुष्प्रभावों से छुटकारा पाने के लिए, इसके कारणों की जांच कर उनकों नियंत्रित करने की आवश्यकता होती है।

अतः आज के इस लेख में आप जानेगें कि हस्तमैथुन की लत क्या है इसके कारण, लक्षण क्या हैं तथा इस समस्या के उपचार और बचाव के बारे में।

हस्तमैथुन की लत क्या है

मास्टरबेशन की लत महिला और पुरुष दोनों से सम्बंधित आत्म यौन सुख प्राप्त करने के लिए स्वयं ही अपने जननांगों को सहला कर उत्तेजित करने की आदत है। अतः जब हस्तमैथुन की आदत इस हद तक बढ़ जाये, कि सम्बंधित व्यक्ति को यौन संतुष्टि प्राप्त करने के लिए बार-बार हस्तमैथुन करने की आवश्यकता होती है या जब व्यक्ति अपने आपको हस्तमैथुन करने से रोकने में असमर्थ होता है, तो इस स्थिति को हस्तमैथुन की लत कहा जाता है। हस्तमैथुन की स्थिति में व्यक्ति प्राकृतिक यौन तरीकों से परे जाकर, यौन उत्तेजना को प्राप्त करने के लिए हाथ, उंगलियां, रोजमर्रा की वस्तुओं और सिंक्स टॉयज का प्रयोग कर सकते हैं।
हस्तमैथुन की लत से पीड़ित व्यक्ति हस्तमैथुन करने में अधिक समय व्यतीत करने लगता है। जब तक मास्टरबेशन की लत व्यक्ति के स्वास्थ्य, यौन जीवन और सामाजिक जीवन को प्रभावित नहीं करती है, तब तक इसका प्रबंधन किया जाना आवश्यक होता है। हस्तमैथुन की लत, स्वास्थ्य जोखिम उत्पन्न करने के साथ-साथ, उत्तेजना प्राप्त करने के लिए उपयोग की जाने वाली चीजों से अधिक कष्टप्रद महसूस हो सकता है।

हस्तमैथुन की लत के कारण

मास्टरबेशन मुख्य रूप से हार्मोन की रिहाई को बढ़ावा देता है, तथा यह हार्मोन प्राकृतिक रूप से यौन संतुष्टि और संतोष की भावना को प्रदान करता है। हस्तमैथुन की लत के अलग-अलग कारण हो सकते हैं, जिनमें शामिल हैं:
• पोर्नोग्राफी व्यक्तियों को हस्तमैथुन करने के लिए प्रेरित कर सकती है, तथा हस्तमैथुन की लत का भी कारण बन सकती है।
• परिवार या यौन जीवन में परेशानी या अशांति के कारण पुरुष और महिलाएं हस्तमैथुन को सामान्य यौन गतिविधि के रूप में अपना सकते हैं।
• कुछ व्यक्तियों में यौन संतुष्टि के लिए आवश्यक हार्मोन के स्तर में कमी, मास्टरबेशन की लत का कारण बन सकती है। हस्तमैथुन इन हार्मोन की रिहाई को बढ़ावा देता है, जिससे व्यक्ति अधिक आनंद और संतुष्टि का अनुभव करता है। इस बजह से व्यक्ति वास्तविक सम्भोग के सापेक्ष हस्तमैथुन को अधिक पसंद कर सकता है।
• कुछ व्यक्ति रोजमर्रा की चिंताओं को अस्थायी रूप से दूर करने और सुख प्राप्त करने के लिए अत्यधिक हस्तमैथुन की ओर प्रेरित हो सकते हैं। हस्तमैथुन के बाद होने वाली आनंद की अनुभूति व्यक्ति को हस्तमैथुन की लत से पीड़ित कर सकती है।

हस्तमैथुन की लत के लक्षण

मास्टरबेशन करने की लत के लक्षणों का पता लगाना बिल्कुल भी मुश्किल नहीं है। हस्तमैथुन की लत की पहचान निम्न लक्षणों के आधार पर की जा सकती है, जैसे:
• अकेलेपन की स्थिति में हस्तमैथुन करने की अचानक तीव्र इच्क्षा उत्पन्न होना।
• आनंदमय शांत रातों में स्वयं के जननांगों के साथ खेलने के लिए इच्क्षा प्रगट होना।
• मास्टरबेशन की लत प्रति दिन या दिन में एक से अधिक बार हस्तमैथुन करना।
• रात के समय उठकर हस्तमैथुन करना मास्टरबेशन की लत की ओर संकेत हो सकता है।
• हस्तमैथुन की लत के लक्षण नाइट डिस्चार्ज होना।
• पार्टनर के साथ शारीरिक सम्बन्ध बनाने के बाद भी यौन संतुष्टि प्राप्त नहीं होना।
• यौन साथी के साथ वास्तविक सिंक्स करने की अपेक्षा हस्तमैथुन को अधिक पसंद करना।
• बालों का झड़ना भी हस्तमैथुन की लत की ओर संकेत हो सकता है।

हस्तमैथुन की लत के साइड इफ़ेक्ट

Common-Causes-of-Impotence-In-Men-In-Hindiमास्टरबेशन पुरुष एवं महिलाओं की यौन इच्क्षाओं की संतुष्टि के लिए आनंददायक क्रिया है और जो विशेष रूप से जीवन के शुरुआती वर्षों में एक लत बन सकती है। मास्टरबेशन की लत सम्बंधित व्यक्ति के स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकती है। हस्तमैथुन की लत के संभावित दुष्प्रभावों में निम्न को शामिल किया जा सकता है:
• मानसिक तनाव और चिंता से ग्रस्त होना।
• हस्तमैथुन की लत के दुष्प्रभाव अत्यंत थकावट महसूस होना।
• पीठ दर्द होना तथा बेचैनी महसूस करना।
• हस्तमैथुन की लत के नुकसान ग्रोइन और वृषण में दर्द होना।
• मास्टरबेशन की लत के नुकसान शीघ्रपतन की स्थिति उत्पन्न होना।
• हस्तमैथुन की लत के साइड इफ़ेक्ट बालों का झाड़ना।
• लिंग का सिकुड़ना या पुरुषों में शुक्राणुओं की संख्या् में कमी आना।
• प्रोस्टेट कैंसर का अत्यधिक ख़तरा होना, इत्यादि।

हस्तमैथुन की लत का इलाज

मास्टरबेशन की लत की स्थिति में सिक्स थेरेपिस्ट के साथ परामर्श करना अत्यधिक फायदेमंद होता है। अत्यधिक हस्तमैथुन या हस्तमैथुन की लत से निपटने और इसे नियंत्रित करने के लिए एक उचित योजना बनाई जानी चाहिए तथा इस हेतु डॉक्टर की मदद भी ली जानी चाहिए। अपितु हस्तमैथुन की लत का इलाज करने के लिए कोई दवा उपलब्ध नहीं है। किन्तु रोग विशेषज्ञ इससे सम्बंधित लक्षणों तथा जटिलताओं का निदान करने के लिए कुछ दवाओं की सिफारिश कर सकते हैं। इसके साथ ही हस्तमैथुन की लत से छुटकारा दिलाने के लिए डॉक्टर निम्न उपचार थेरेपी की सिफारिश कर सकता है, जैसे:
• मनोचिकित्सा
• संज्ञानात्मक व्यवहारपरक चिकित्सा
• समूह चिकित्सा
• परिवार चिकित्सा
शरीर में कॉर्टिसोल जिसे “तनाव हार्मोन” भी कहा जाता है, के उच्च स्तर भी मास्टरबेशन की लत का कारण बन सकते हैं अतः कॉर्टिसोल हार्मोन को कम करने वाली शारीरिक गतिविधियों जैसे- व्यायाम करना, पर्याप्त नींद लेना, तनाव से दूर रहना, गाने सुनना इत्यादि को अपनाने की सिफारिश की जा सकती है। अतः इस हार्मोन में कमी अच्छे विचार को उत्पन्न करने तथा हस्तमैथुन की स्थिति में बचने में योगदान दे सकती है।

हस्तमैथुन की लत से बचाव के तरीके

हस्तमैथुन की लत से बचने के लिए व्यक्ति को निम्न तरीकों का पालन करना चाहिए, जैसे कि:
• व्यक्ति को बुरी संगती से दूर रहना चाहिए तथा अच्छी संगती को अपनाना चाहिए।
• हस्तमैथुन की लत से बचाव के लिए पोर्न विडियो नहीं देखना चाहिए।
• सिंक्स स्टोरीज नहीं पढना चाहिए।
• मुठ से छुटकारा कैसे पाएं में सही दिनचर्या को अपनाना चाहिए।
• मास्टरबेशन की लत से छुटकारा पाने के लिए अश्लील चर्चा से दूर रहना चाहिए।
• लड़कियों के बारे में नहीं सोचना चाहिए।
• मुठ मारने से छुटकारा पाने के लिए प्रेरणादायी किताबें पढ़ना चाहिए ।
• अपने जीवन में आध्यात्म को अपनाना चाहिए।
• पर्याप्त मात्रा में पानी का सेवन करना चाहिए।
• रोजाना नियमित रूप से व्यायाम करना चाहिए।
• हस्तमैथुन की लत छोड़ने के लिए नशा नहीं करना चाहिए।
• समस्या के निदान के लिए विशेषज्ञ की मदद लेनी चाहिए।
• देर रात तक न जागें, रात को जल्दी सोये और सुबह जल्दी उठने का प्रयास करें।
• मास्टरबेशन की लत से बचने के लिए सकारात्मक विचार रखें।
• मास्टरबेशन की लत से बचने के लिए अकेले (एकांत) न रहें, इत्यादि।