Home उत्तर प्रदेश यूपी में नाबालिग से रेप, जिंदा जलाया, 9 दिन बाद मौत, मां...

यूपी में नाबालिग से रेप, जिंदा जलाया, 9 दिन बाद मौत, मां शिकायत लेकर आरोपी के घर गई तो पीटा

10
Rape of minor in UP, burnt alive, death after 9 days-2

तेलंगाना में वेटनरी डॉक्टर की गैंगरेप के बाद हत्या कर दी गई. फिर उसके शव को जला दिया गया. कुछ ऐसी ही घटना यूपी के दो जिलों से सुनने को मिल रही है. एक जिला है संभल और दूसरा है हरदोई. जहां नाबालिग लड़कियों का रेप हुआ और उसके बाद उनकी हत्या कर दी गई. एक की जलाकर, तो दूसरे की गला घोंट कर.

पूरा मामला क्या है?

1- हरदोईं

यहां हुई घटना की जानकारी के लिए हमने इंडिया टुडे से जुड़े प्रशांत पाठक से बात की. उन्होंने बताया कि लड़की की उम्र 7 साल थी. सुरसा थाने के पास के एक गांव में रहती थी. 28 तारीख को इस गांव में एक बारात आई. शादी अटेंडे करने के लिए ये बच्ची भी अपने घर के लोगों के साथ गई थी. पर वहां जब और बच्चों को देखा, तो उनके साथ खेलने में व्यस्त हो गई. इसी बीच वो कहां चली गई, किसी को पता ही नहीं चला. उसके घरवालों ने भी उसे काफी ढूंढा, पर वो नहीं मिली. इसके बाद दूसरे दिन सुबह उसकी डेड बॉडी एक झाड़ी के पास पड़ी हुई थी.

बच्ची की डेडबॉडी, जो झाड़ी के पास मिली थी.

इसके बाद गांव के ही कुछ लोगों ने पुलिस को सूचना दी. पुलिस ने जांच शुरू की. इसी दौरान उन्होंने शादी की रिकॉर्डिंग भी देखी. जिसमें आरोपी विनोद कुमार चौरसिया (35) नजर आ रहा था. उसके साथ वो बच्ची भी थी. वीडियो के मुताबिक, आरोपी विनोद बच्ची को मिठाई का लालच दे रहा था. और फिर दोनों वहां से चले गए. पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया. आरोपी विनोद ने बताया कि उसने मिठाई देने के बहाने बच्ची का रेप किया और फिर उसकी गला दबाकर हत्या कर दी.

इस मामले में पुलिस अधीक्षक आलोक प्रियदर्शी का कहना है-

थाना सुरसा क्षेत्र में 7 साल की बच्ची का शव सुबह-सुबह मिला था. जांच में पता चला कि वो बारातियों के साथ खाना खा रही थी. समय पर घर नहीं पहुंची. घरवालों ने ढूंढा, पर वो नहीं मिली. फिर दूसरे दिन उसकी डेडबॉडी, जहां शादी हो रही थी, उससे थोड़ी दूर पर पाई गई. बॉडी को पोस्टमॉर्टम के लिए भेजा गया, जिससे उसके रेप की पुष्टि हुई. आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है. पूछताछ में आरोपी ने बताया कि वो बाराती बनकर शादी में शामिल हुआ था. मिठाई देने के बहाने उसने बच्ची का रेप किया और फिर हत्या कर दी. फिलहाल आरोपी को जेल भेज दिया गया है.

2- संभल

This image has an empty alt attribute; its file name is Rape-of-minor-in-UP-burnt-alive-death-after-9-days.jpgयहां हुई घटना के बारे में हमने इंडिया टुडे के रिपोर्टर अनूप कुमार से बात की. उन्होंने बताया कि 21 नवंबर को 16 साल की बच्ची का रेप हुआ था. संभल के सिरसी का ये मामला है. आरोपी का नाम जीशान (30) है, जो बच्ची का पड़ोसी था. 21 नवंबर को जब बच्ची की मां अस्पताल गई हुई थी. बच्ची घर पर अकेली थी. तब आरोपी जीशान बच्ची का मुंह दबाकर उसे लेकर एक खाली घर में गया. वहां उसका रेप किया. फिर बच्ची ने पूरी बात अपनी मां को बताई.

11 साल की बच्ची,जिसे रेप करने के बाद जला दिया गया था. और अब उसकी मौत हो गई है.

मां जब ये बात गांव के दूसरे लोगों को बताने के लिए गई, तब जीशान को लगा कि उसके बारे में बच्ची ने शिकायत कर दी है. इसी बात से आरोपी डर गया. उसने केरोसिन का केन उठाकर बच्ची के ऊपर उड़ेल दिया. और उसे आग लगा दी. बच्ची की चीख सुनते ही, जब मां पहुंची, तो आग बुझाने का प्रयास किया गया.
हालांकि तब तक आरोपी फरार हो चुका था. बच्ची को पास के सरकारी अस्पताल ले जाया गया. जहां से उसे दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल रेफर किया गया. वहां उसका इलाज चल रहा था. वहीं, पुलिस ने घटना के दूसरे दिन यानी 22 नवंबर को ही आरोपी को गिरफ्तार कर लिया था.

बच्ची को जलाकर मारने वाला आरोपी जीशान अब जेल में है.

9 दिन इलाज के बाद बच्ची की 29 नवंबर को मौत हो गई. लड़की की मां की मांग है कि जैसे उसकी बेटी की मौत हुई है, वैसे ही आरोपी को भी सजा मिलनी चाहिए. उसके पूरे घर को जेल हो और लड़के को सजा मिले. मां के मुताबिक, जब आरोपी के घर शिकायत लेकर गए, तो उसके घरवालों ने उन्हें मारापीटा.

बच्ची की मां, जो अब अपनी बेटी के लिए इंसाफ मांग रही है और आरोपियों के लिए सजा.

वहीं, इस मामले में पुलिस का कहना है कि बच्ची का रेप हुआ और उसे मिट्टी का तेल डालकर जला दिया गया था. आरोपी की गिरफ्तारी हो गई थी. मुकदमे को फास्टट्रैक कोर्ट में ले जाया जाएगा. NSA भी लगाया जाना है. उसके लिए कोशिश की जा रही है. लड़की के परिवार को रानी लक्ष्मी बाई महिला एवं बाल सम्मान कोश से आर्थिक मदद दी जाएगी.

हैदराबाद और संभल में रेप और हत्या की घटनाओं से बहुत दुखी हूं. अपना गुस्सा बयां करने के लिए मेरे पास कोई शब्द नहीं है. एक समाज के तौर पर हमें ऐसी घटनाओं को रोकने के लिए बोलने से ज्यादा, बहुत कुछ करना होगा. हमें अपने सोचने के तरीके को बदलना होगा, हिंसा को नकारना होगा, महिलाओं को रोजाना जिस नृशंस का सामना करना पड़ता है, उन घृणित तरीकों को स्वीकार करने से मना करना होगा.