Home घरेलू उपाय ब्लड प्रेशर लो होने के कारण और लक्षण क्या है?

ब्लड प्रेशर लो होने के कारण और लक्षण क्या है?

82
What are the symptoms and causes of low blood pressure

लो ब्लड प्रेशर को कण्ट्रोल करने के घरेलू उपाय कम रक्तचाप बहुत दुखदाई हो सकता हैं, पर कुछ लोगों को यह कोई समस्या उत्पन्न नहीं करता हैं। लो ब्लड प्रेशर कोई सामान्य बात नहीं हैं इसके कारण व्यक्ति को बहुत सी परेशानी आने लगती हैं जैसे कि चक्कर आना, कमजोरी महसूस होना आदि। गंभीर मामलों में कम रक्तचाप आपके जीवन को खतरे में डाल सकता हैं। क्योकि लो ब्लड प्रेशर में शरीर में ब्लड का दबाव कम होने से जरूरी अंगों तक पूरा ब्लड नही पहुंच पाता है। सामान्यतः व्यक्ति का रक्तचाप 120 से 80 मिलीमीटर होता हैं, कम रक्तचाप में पारा की रीडिंग सिस्टोलिक के लिए 90 मिलीमीटर से कम या डायस्टोलिक में 60 मिलीमीटर hg को कम रक्तचाप माना जाता हैं। कम रक्तचाप के इलाज के लिए इसके कारण को जानना आवश्यक होता हैं। अगर आपका भी बी पी लो होता है तो तुरन डॉक्टर से दिखायें इसके अलावा आप कुछ घरेलू उपचार से इसे ठीक कर सकते हैं।

रक्तचाप कम होने के कारण

This image has an empty alt attribute; its file name is Symptoms-of-low-blood-pressure-in-Hindi.jpgरक्तचाप हर एक धड़कन के दौरान रक्त को पंप करने के कारण आपकी धमिनियों में दवाब का एक माप होता हैं, रक्तचाप आपके पूरे दिन की स्थिति पर निर्भर करता हैं जैसे कि आपकी साँस, मानसिक तनाव और शारीरिक तनाव, आपके द्वारा ली जाने वाली दवाइयां, आप क्या खाते हैं, क्या पीते हैं। आमतौर पर रात में रक्तचाप सबसे कम और उठने पर अधिक हैं। कम रक्तचाप का कारण आपके शरीर में रक्त की कमी, दवाइयों के कारण, ह्रदय के रोगों के कारण, रक्त में चीनी की मात्रा का कम या अधिक होना, एलर्जी के कारण जैसे कि मधुमक्खियों के काटने के कारण, लम्बे समय तक खड़े रहना, शरीर में आवश्यक पोषक तत्व की कमी के कारण होता हैं।

रक्तचाप कम होने के लक्षण

लो ब्लड प्रेशर या कम रक्तचाप की समस्या आज कल धीरे-धीरे बढ़ती जा रही हैं, जब रक्तचाप में कमी आती हैं तो यह आंतरिक समस्या का संकेत देता हैं इसके कुछ लक्षण होते हैं जैसे कि चक्कर आना, बेहोश होना, झटका लगना, थकान और कमजोरी महसूस होना, धुंधला दिखाई देना, जी मिचलाना, ध्यान की कमी होंना, आदि लक्षण हो सकते हैं, इस प्रकार के लक्षण दिखाई देने पर आपको कम रक्तचाप हो सकता हैं, इसके लिए आप कुछ घरेलू उपचार कर के इसे कम कर सकते हैं। और जितना जल्दी हो सके डॉक्टर को दिखा सकते है।