Home ब्यूटी टिप्स बाल सफेद होने से रोकने के घरेलू उपाय

बाल सफेद होने से रोकने के घरेलू उपाय

17
White-Hair-Treatment-at-Home-in-Hindi

कम उम्र में ही बालों का सफेद होना आज एक आम समस्‍या बन गई है। क्‍या आप भी बाल सफेद होने से रोकने के घरेलू उपाय ढूंढ रहे हैं। आपको यह जानकर हैरानी होगी कि कम उम्र में बालों का सफेद होना प्राकृतिक नहीं है। बल्कि यह हमारी खराब जीवनशैली और कुछ विशेष दुष्‍प्रभावों के कारण होता है। लेकिन इस प्रकार की समस्‍या से बचने के लिए आप कुछ घरेलू उपचारों की मदद ले सकते हैं। जिनका उपयोग करने से आप समय से बालों को सफेद होने से रोक सकते हैं। आज इस आर्टिकल में आप ऐसे ही कुछ प्रभावी घरेलू नुस्‍खे और उपचार जानेगें। आइए विस्‍तार से जाने बाल सफेद होने से रोकने घरेलू उपाय और कारण क्‍या हैं।

बाल सफेद होने के कारण

हमारे बालों में वृद्धि उस समय होती है जब नई कोशिकाओं के उत्‍पादन के कारण पुरानी कोशिकाओं को बाहर धक्‍का दिया जाता है। यह प्रक्रिया तीन चरणों में पूरी होती है।

  • व‍ृद्धि (anagen)
  • समाप्ति (catagen)
  • स्थिरता (telogen)।

स्थिरता के दौरान आपके बाल अपने जीवनकाल तक पहुंचते हैं और गिरने लगते हैं और उनकी जगह नए बाल आने लगते हैं। जब आपके बाल बढ़ते हैं तो इसे पिगमेंट के साथ इंजेक्‍ट किया जाता है जो बालों को प्राकृतिक रंग प्रदान करता है। लेकिन उम्र बढ़ने के साथ ही बालों के प्रत्‍येक स्‍ट्रैंड में इंजेक्‍ट होने वाले वर्णक की मात्रा कम हो जाती है। यही कारण है कि उम्र बढ़ने के साथ ही बालों का रंग सफेद होने लगता है।

बाल सफेद होने के अन्‍य प्रमुख कारण इस प्रकार हैं।

जेनेटिक्‍स (Genetics) – बालों के सफेद होने का यह प्रमुख कारण है क्‍योंकि अनुवांशिक गुणों के कारण निश्चित आयु में बाल अपने वर्णक को खोने लगते हैं। कुछ लोगों के लिए यह 20 वर्ष की उम्र से पहले भी हो सकता है।

मेलानिन की कमी (Deficiency of Melanin) – अधिकांश मामलों में मेलेनिन की कमी बालों के सफेद होने का प्रमुख कारण होता है। शरीर में मेलानिन का उत्‍पादान उचित पोषण और प्रोटीन युक्‍त आहार पर निर्भर करता है। इन पोषक तत्‍वों की कमी के कारण भी बालों का रंग सफेद होने लगता है।

हार्मोन (Hormones) – आपके शरीर में मौजूद हार्मोन भी आपके बालों के रंग को प्रभावित कर सकते हैं। हार्मोन असंतुलन के कारण आपके बाल सफेद हो सकते हैं।

चिकित्‍सा स्थिति (Medical Conditions) – कुछ अंतर्निहित चिकित्‍सा स्थितियां आपके बालों के रंग की स्‍थिति को प्रभावित कर सकती है। इस प्रकार की स्थिति में विटामिन बी12 की कमी या थायरॉयड और पिट्यूटरी ग्रंथियों के साथ समस्‍याएं शामिल हैं।

तनाव (Strees) – हेक्टिक शेड्यूल के कारण तनाव, शराब और जंक फूड के अत्‍यधिक सेवन के के कारण भी बाल समय से पहले सफेद होने लगते हैं।

रसायन (Chemicals) – कभी कभी अधिक मात्रा में रासायनिक शैम्‍पू और साबुन आदि का उपयोग करना भी हमारे बालों के सफेद होने का कारण बन सकता है। हालांकि यह कुछ एलर्जी संक्रमणों के परिणामस्‍वरूप भी हो सकता है।

यदि आप भी सफेद बालों से परेशान हैं तो कुछ घरेलू और आयुर्वेदिक उपचार को अपना सकते हैं। ये उपचार पूरी तरह से प्राकृतिक हैं और इन्‍हें आसानी से घर में उपयोग किया जा सकता है। नियमित रूप से उपयोग करने पर इन प्राकृतिक उपायों के कोई दुष्‍प्रभाव भी नहीं होते हैं।

सफेद बालों का उपचार आंवला पाउडर

आप अपने बालों की सफेदी को कम करने और प्राकृतिक रूप से काला बनाने के लिए आंवला पाउडर का उपयोग कर सकते हैं। इसके लिए आपको चाहिए 3-4 आंवला और 1 कप नारियल तेल।
बालों के लिए प्राकृतिक तेल बनाने के लिए आप नारियल के तेल में आंवला को उबालें। इसके बाद आंवला को तेल से अलग करें और ठंडा करने के बाद इसे किसी बोतल में बंद करके रख लें। इस तेल से आप रोजाना अपने बालों की मालिश करें। लगभग 15 मिनिट की मालिश के बाद आप अपने बालों में आधा घंटे तक तेल लगे रहने दें। लेकिन यदि यह तेल रात भर बालों में लगा रहे तो और भी लाभकारी हो सकता है। इसके बाद आप अगली सुबह किसी हल्‍के शैम्‍पू से अपने बालों को धुलें। आंवला में मौजूद पोषक तत्‍व क्षतिग्रस्‍त बालों की मरम्‍मत करते हैं। यह एक हेयर टॉनिक की तरह काम करता है जो आपके बालों को चमक देने के साथ ही प्राकृतिक रूप से काला बनाता है। आंवला में विटामिन सी होता है जो बालों को समय से पहले सफेद होने से रोकता है।

बाल को सफेद होने से रोके काली चाय

सामान्‍य रूप से चाय को तरल पेय के रूप में उपयोग किया जाता है। क्‍योंकि इसमें प्राकृतिक रूप से बालों के वर्णक की क्षति को कम करने की क्षमता होती है। सफेद बालों से छुटकारा पाने के लिए आपको चाहिए 2 बड़े चम्‍मच ब्‍लैक टी और 1 कप पानी। इससे उपयोग करने के लिए आप पानी में काली चाय की पत्‍ती को डालकर उबालें और फिर ठंडा होने दें। ठंडा होने के बाद मिश्रण से उबली हुई चाय की पत्‍ती को अलग करें। फिर इस पानी से अपने बालों को धुलें और मालिश करें। मालिश करने के बाद लगभग 1 घंटे तक इंतेजार करें और फिर किसी सौम्‍य शैम्‍पू से अपने बालों को धो लें। आप अपने बालों की सफेदी से छुटकारा पाने के लिए इसे सप्‍ताह में कम से कम 3 बार उपयोग किया जाना चाहिए। काली चाय में एंटीऑक्‍सीडेंट होते हैं जो सफेद बालों की वृद्धि को रोकने में सहायक होते हैं।

बाल को सफेद होने से बचाये नींबू और नारियल तेल

बालों के अच्‍छे स्‍वास्‍थ्‍य के लिए नारियल का तेल बहुत ही लोकप्रिय तेल है। क्‍योंकि यह बालों को जड़ से मजबूत करता है और बालों की अन्‍य समस्‍याओं का प्रभावी इलाज करता है। सफेद बालों का उपचार करने के लिए आपको चाहिए 2 चम्‍मच नींबू का रस और 2 बड़े चम्‍मच नारियल का तेल। नारियल के तेल में नींबू का रस मिलाएं और कुछ मिनिट के लिए मिश्रण को गर्म करें। इस गुनगुने तेल से अपने बालों और सिर की ऊपरी त्वचा की हल्‍की मालिश करें। लगभग आधे घंटे के बाद आप अपने बालों को अच्‍छी तरह से धो लें। नींबू में विटामिन सी की अच्‍छी मात्रा होती है। बालों से संबंधित अधिकांश समस्‍याएं विटामिन बी और विटामिन सी की कमी के कारण होती हैं। इसके अलावा नींबू में फास्‍फोरस भी होता है। यह आपके बालों के रोम में वर्णक कोशिकाओं के रखरखाव और विकास में सहायक होता है। इस तरह से यदि आप सफेद बालों की परेशानी से बचना चाहते हैं तो नींबू और नारियलत तेल का उपयोग कर सकते हैं।

सफेद बालों को काला करने की दवा अंरडी का तेल

ऐसा माना जाता है कि जो लोग बालों में अरंडी के तेल का उपयोग करते हैं उन्‍हें बाल से संबंधित समस्‍याएं नहीं होती है। लेकिन यदि आप सफेद बाल से परेशान हैं तो सरसों और अंरडी के तेल का उपयोग कर सकते हैं। सरसों के तेल में आवश्‍यक खनिज पदार्थ मौजूद रहते हैं जो आपके बालों के स्‍वास्‍थ्‍य और रंग को बनाए रखने में मदद करते हैं। यह मिश्रण आपके रोम छिद्रों को पोषण देने और बालों को गिरने से रोकने में भी सहायक होते हैं। इस मिश्रण को तैयार करने के लिए आपको चाहिए 1 बड़ा चम्‍मच अंरडी का तेल और 2 बड़े चम्‍मच सरसों का तेल। यदि अंडी का तेल उपलब्‍ध न हो तो आप जोजोबा या कलौंजी के तेल का भी उपयोग कर सकते हैं।

आप सरसों और अंरडी या वैकल्पिक तेल को आपस में अच्‍छी तरह से मिलाएं और हल्‍का गर्म करें। जब तेल हल्‍का गुनगुना हो जाये तब इस तेल से अपने बालों की मालिश करें। मालिश करने के बाद लगभग 30 मिनिट तक इंतेजार करें और फिर अपने बालों को शैम्‍पू से धो लें। आप इस आयुर्वेदिक तेल को सप्‍ताह में कम से कम 2 से 3 बार उपयोग कर सकते हैं।